3 MIN READ

हमारी त्वचा बाहरी जलवायु के साथ मुकाबला करती है| सूरज की तेज किरणें, हवा, प्रदूषण, हमारी आदते, अनुवांशिकता ये त्वचा रूखी होने के कुछ प्रमुख कारण हैं| त्वचा अगर जल्द ही बुढ़ापे की ओर झुकना शुरू कर दे तो उसके पीछे त्वचा की परत के नीचे की चर्बी घट जाना, तनाव, मोटापा और सोने की आदते ये कारण भी हो सकते हैं|

बुढ़ापे में त्वचा में आने वाले बदलाव:

बुढ़ापे में अपने शरीर के बाकी अंगों के साथ साथ त्वचा की उम्र भी बढ़ने लगती है| आम तौर पर त्वचा में उस दौरान निम्नलिखित बदलाव पाए जाते हैं:

  • रूखी त्वचा
  • त्वचा की ऊपरी परत पर गांठे
  • त्वचा ढीली पड़ जाना
  • उपकला ऊतकों के पतले हो जाने की वजह से त्वचा पारदर्शी सी हो जाना
  • त्वचा की ऊपरी एवं अंधरुनी परत एक दूसरे के नजदीक आने की वजह से त्वचा जल्दी फट जाना
  • रक्त वाहिकाएं पतली हो जाने की वजह से जख्म जल्दी होना

ये जरूर पढ़ें: 12 Ways Men Can Keep Their Skin Healthy

बुढ़ापे में त्वचा के अंधरुनी हिस्सों में आनेवाले बदलाव

त्वचा की सिर्फ ऊपरी परत में ही नहीं बल्कि अंधरुनी परत में भी उम्र बढ़ने के साथ बदलाव आने लगते हैं| गाल, ठोड़ी, नाक और आँखों के नीचले हिस्से की चर्बी घट जाती है| इस कारण चेहरे की हड्डियां दिखने लगती है| साठ साल की उम्र के बाद चेहरे पे झुर्रियां, त्वचा ढीली पड़ना, नाक की नोक नीचे ढल जाना आदि बदलाव आने लगते हैं|

धूप की वजह से त्वचा में कौनसे बदलाव आते हैं?

त्वचा की उम्र ज्यादा लगने का मुख्य कारण सूरज की धूप है| सूरज के अतिनील किरणों की वजह से त्वचा को हानि पहुंचती है| त्वचा में स्थित फाइबर इलास्टिन पर धूप का गहरा असर होता है| जिस वजह से त्वचा में लचीलेपन की कमी आ जाती है| इससे त्वचा पर घाव जल्दी बनते हैं और वे ठीक होने में भी लम्बा समय लगता है| जवानी में त्वचा को होने वाले नुकसान का असर अक्सर बुढ़ापे में दिखता है|

धूप की वजह से त्वचा का बड़े पैमाने पर नुकसान होता है| परन्तु उसको नियंत्रण में लाया जा सकता है| लेजर ट्रीटमेंट की वजह से त्वचा ठीक हो सकती है| कड़ी धूप से बचने के लिए सनस्क्रीन लोशन, सनकोट और स्कार्फ या टोपी से अपनी त्वचा को ढँक कर या फिर शाम होने पर ही बाहर निकलें|

ये जरूर पढ़ेंFive tips for fabulous skin post 60

त्वचा के रूखेपन के अन्य कारण

चेहरे के हावभाव, सोने की आदत और गुरुत्वाकर्षण की वजह से त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है| गाल, ठोड़ी, नाक और आँखों के इर्दगिर्द झुर्रिया आना ये रूखी त्वचा के कुछ लक्षण हैं|

बुढ़ापे में त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए टिप्स

  1. त्वचा को स्वच्छ एवं नम रखें: त्वचा को साफ़ रखने के लिए प्राकृतिक क्लिन्जर्स का उपयोग करें जैसे की ग्लिसरीन एवं जोजोबा ऑइलयुक्त क्लिन्जर्स| नहाने के तुरंत बाद ऐसा मॉइस्चराइजर इस्तेमाल करे जो त्वचा जल्दी सोख ले|
  2. गुनगुने पानी से चेहरे को साफ़ करो: गर्म पानी चेहरे की नमी छीन लेता है इसलिए गुनगुने पानी से चेहरा धो लें एवं नहाएं|
  3. साबुन का इस्तेमाल न करें : साबुन से त्वचा रूखी बन जाती हैं इसलिए मॉइस्चराइजिंग जेल से नहाएं|
  4. सनस्क्रीन का इस्तेमाल करेंघर से बाहर निकलने से पहले सनस्क्रीन इस्तेमाल करें| धूप में बाहर न निकलें| अगर कड़ी धूप में  निकलना ही पड़े तो स्कार्फ, हॅट, सनकोट या छाते का इस्तेमाल करें|
  5. बहुत पानी पिएं: पानी पीने से त्वचा में नमी बनी रहती है| दिन में कम से कम ८ गिलास पानी जरूर पीना चाहिए| 
  6. धूम्रपान न करें: धूम्रपान की वजह से त्वचा की नमी ख़त्म हो जाती है| इसका शरीर पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है|
  7. त्वचातज्ज्ञ की सलाह लें: अगर इतना ख्याल रखने के बावजूद भी आपकी त्वचा पर ज्यादा उम्र दिखाई दे रही हैं तो एक बार डॉक्टर से सलाह लें|

ये भी पढ़ेँ: Home remedies for skin tightening

Read this here in English and Marathi

Ask a question regarding बुढ़ापे में रूखी त्वचा: लीजिए पूरी जानकारी  

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here