2 MIN READ

बढ़ती उम्र के साथ साथ कई बातें बदल जाती हैं| कुटुंब के सदस्य आपको समय नहीं दे पाते या फिर जीवनसाथी गुजर जाता हैं| इन परिस्थितियों में किसी भी बात में दिल नहीं लगता और बेबसी महसूस होती है| इसे डिप्रेशन कहा जाता है| डिप्रेशन में अक्सर व्यक्ति में ज्यादा सोना या अनिद्रा दोनों में से कोई एक लक्षण नजर आता है| इसके अलावा गुस्सा, चिड़चिड़ापन, स्वयं की नफ़रत आदि लक्षण दिखाई देते हैं|

परिवार के सदस्यों को या आस पड़ोस वालों को अक्सर ऐसा लगता है कि, उम्र बढ़ते समय बर्ताव में ऐसे बदलाव आते हैं| परन्तु, ये बदलाव डिप्रेशन यानि की अवसाद के कारण आते हैं|

सपोर्ट (सहायता) ग्रुप्स डिप्रेशन में क्यों हैं फ़ायदेमंद?

समूह में बैठकर सिर्फ बातें ही नहीं की जाती बल्कि डिप्रेशन के कारण जानकर बुजुर्गों को डिप्रेशन से बाहर आने के लिए मदद भी की जाती है| आइये देखते हैं सपोर्ट ग्रुप्स किस प्रकार के होते हैं:

1. ऑनलाइन फोरम्स: सोशल मिडिया पर ऐसे कई सारे सपोर्ट ग्रुप्स होते जहां पर ऐसी समस्या से सामना करनेवाले और भी लोग होते हैं| उनके अनुभव ऐसे ऑनलाइन फोरम्स के जरिए पढ़ने के लिए उपलब्ध होते हैं| ऐसे फोरम्स पर अगर आप अपनी समस्या बयां करेंगे तो आपको उसका हल भी मिल सकता है| ऑनलाइन फोरम्स के जरिए आप नएदोस्त बना सकते हैं|

  1. स्थानीय ग्रुप्स: डिप्रेशन से बाहर निकलनेके लिए स्थानीय ग्रुप्स के सदस्यों से बातचीत कर अकेलापन दूर हो सकता है| जीवन की तरफ देखने का एक सकारात्मक नजरिया आपको मिल सकता है|

ये जरूर पढ़ें: इन ६ युक्तियों के साथ तनाव मुक्त रिटायरमेंट का आनंद लें

एक अच्छे सपोर्ट ग्रुप के जरिए आपको नया जीवन मिल सकता है| सपोर्ट ग्रुप से होते हैं ये फ़ायदे: 

  1. अगर आपको डिप्रेशन क्यों होता है, लक्षण और उपचार क्या है ये पता नहीं होगा तो आप इस समस्या से बाहर नहीं निकल पाएंगे| किसी बीमारी को हराने के लिए उसके बारे में जानना आवश्यक है| सपोर्ट ग्रुपमें ये सारी बातें आपको सिखाई जाती है और डिप्रेशन के बारे में पूरी जानकारी दी जाती है|
  2. आप अपनी परेशानी बिना हिचकिचाएं बयां कर सकते हैं| यहां आपकी बातों को सुननेवाले लोग आपको मिलेंगे और कोई आपका अनादर नहीं करेगा|
  3. अगर आपको ऐसे लगता है कि जीवन का अब कोई उद्देश्य नहीं रहा तो सपोर्ट ग्रुप में आकर आप इस बात को भूलकर नई आशा को दिल में स्थान देंगे|
  4. डिप्रेशन दूर करने के लिए कुछ दिलचस्प गतिविधियां कौनसी हैं ये आप पता कर सकते हैं|
  5. सपोर्ट ग्रुप में ये बताया जाता है कि, डिप्रेशन के लक्षण दिखनेपर क्या करना चाहिए जिससे तकलीफ न हो|
  6. डिप्रेशन से बाहर आने के लिए आपके आसपास क्या सुविधाएं और कौनसे चिकित्सक हैं इसकी जानकारी दी जाती है|

आइये देखते हैं भारत के कुछ सपोर्ट ग्रुप्स जो डिप्रेशन से बाहर निकलने के लिए सहायता करते हैं:

  1. दी माइंड रिसर्च फाउंडेशन, चंडीगढ़
  2. आसरा, मुंबई
  3. एनआयएमएचएएनएसऔर केडबंस, बेंगलोर
  4. होप ट्रस्ट इंडिया, हैदराबाद
  5. ऑनलाइन सपोर्ट देनेवाली संस्थाएं- सेरेनिटीहोप नेटवर्कई-वेलनेस सेंटर

ये जरूर पढ़ें: जिंदगी की शाम की एक नई शुरुआत: वरिष्ठ नागरीकों के विवाह

Ask a question regarding डिप्रेशन से निकले बाहर सपोर्ट ग्रुप्स की मदद से

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here