2 MIN READ

प्रलाप और स्मृतिभ्रंश दोनों ही मस्तिष्क की बीमारियां हैं जो मेमोरी लॉस से जुड़ी हैं| आपको ये जानकर हैरानी होगी कि भारत में हररोज ३४ लोग मेमोरी लॉस का शिकार बन रहे हैं| प्रलाप (डलिरियम) और स्मृतिभ्रंश या  मनोभ्रंश  (डिमेंशिया) के लक्षणों में ज्यादा अंतर नहीं है| स्मृतिभ्रंश के निम्नलिखित लक्षण प्रलाप में भी पाएं जाते हैं|

  • किसी भी चीज पर ध्यान देने की क्षमता में कमी आना
  • आसपास इस वक्त क्या चल रहा है उसकी जानकारी न होना
  • बोलने और सही शब्द ढूंढ़ने में परेशानी
  • अनावश्यक चीजों पर ध्यान देना
  • बड़बड़ाना या उल्टा-सीधा जवाब देना
  • नींद न आना
  • चिड़चिड़ापन
  • डर, गुस्सा, तनाव या डिप्रेशन की चरम सीमा पर पहुँच जाना

प्रलाप और स्मृतिभ्रंश के इतने सारे लक्षणों में समानता होने की वजह से ये बताना अक्सर मुश्किल हो जाता है कि मरीज को प्रलाप हुआ है या स्मृतिभ्रंश| हालाँकि, कुछ लक्षणों की मदद से यह उलझन सुलझाई जा सकती है| 

  1. प्रारंभिक अवस्था: प्रलाप की शुरुआत तुरंत ही हो जाती है और मनोभ्रंश के लक्षण धीरे धीरे दिखाई देते हैं|
  2. एकाग्रता: प्रलाप में व्यक्ति के ध्यान देने की क्षमता पर गहरा असर पड़ता है परन्तु स्मृतिभ्रंश के प्रारंभिक अवस्था में व्यक्ति सजग रहता है|
  3. लक्षणों में उतार-चढाव: प्रलाप के लक्षण कम या ज्यादा होते रहते हैं| स्मृतिभ्रंश में याददाश्त और सोचने की क्षमता का स्तर एक समान रहता है|

प्रलाप या स्मृतिभ्रंश के कारण

लक्षणों की तरह प्रलाप और स्मृतिभ्रंश के कुछ कारण भी समान हैं| परन्तु स्मृतिभ्रंश के कुछ अलग कारण भी हो सकते हैं| आइये लेते हैं पूरी जानकारी: 

प्रलाप और स्मृतिभ्रंश के कुछ समान कारण स्मृतिभ्रंश के कारण जो कि प्रलाप के कारणों से भिन्न हैं
मनोभ्रंशअल्ज़ाइमर रोग (३९%)
बूढ़ापाह्रदय विकार (१४%)
सुनने या बोलने में कठिनाईपार्किंसनस रोग (८%)
असंतुलित आहार या पानी की कमीशराब
गंभीर या बार बार होने वाली बीमारीअनिद्रा
दर्द, नींद, एलर्जी, तनाव, पार्किंसन, ऐंठन, दमा या अस्थमा की दवाइयांमस्तिष्क में ट्यूमर
डायबिटीज़
डिप्रेशन

 

ये जरूर पढ़ें: कैसे पहचाने स्मृतिभ्रंश को प्रारंभिक अवस्था में: जानिए १० लक्षण 

कुछ आसान उपायों के जरिए प्रलाप या स्मृतिभ्रंश से जूझने वाले अपने घर के बुजुर्ग सदस्य की मदद की जा सकती है| आइये देखते हैं क्या है उपाय

प्रलाप या स्मृतिभ्रंश की तीव्रता कम करने के लिए कुछ आसान उपाय

  • व्यक्ति को सजग रखने के लिए घड़ी और कैलेंडर कमरे में रखें
  • ज्यादा से ज्यादा समय मरीज के साथ बिताने की कोशिश करें
  • व्यक्ति को आस पास की ख़बरें बताया करें
  • नींद में बाधा न डालें
  • सही मात्रा में पोषण और तरल पदार्थ
  • बाहरी वातावरण के बारे में व्यक्ति को जानकारी मिले इसलिए कमरे में सूरज की किरणें आने दें
  • व्यक्ति का मूड अच्छा रखने के लिए कमरे में संगीत और मालिश की व्यवस्था करें
  • चलने फिरने के लिए प्रोत्साहित करें

जो बुजुर्ग लोग अस्पताल में भर्ती होते हैं उनमें प्रलाप के लक्षण ज्यादातर पाएं जाते हैं| अगर आपके परिवार के बुजुर्ग सदस्य, आस पड़ोस के किसी व्यक्ति या रिश्तेदार में आपको प्रलाप या स्मृतिभ्रंश के लक्षण दिखाई दिए तो तुरंत ही डॉक्टर की सलाह लें|

ये जरूर पढ़ें: भूलने की बीमारी (अल्जाइमर) वाले रोगियों के देखभाल करने वालों के लिए १० जीवन शैली परिवर्तन

Ask a question regarding प्रलाप और स्मृतिभ्रंश में क्या है अंतर? करें वरिष्ठजनों की जाँच इन लक्षणों  को जानकर 

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here