2 MIN READ

क्या आप जानते है कि एनर्जी हीलिंग (ऊर्जा के जरिए उपचार) से हो सकते हैं चमत्कार? एनर्जी हीलिंग (Energy Healing) का मतलब है, वृद्धावस्था में व्यक्ति के शरीर की अशुद्धियों को दूर करके, शरीर की खुद-बखुद ठीक होने की ताकत को सक्रीय करना| इस उपचार प्रणाली को लेकर लोगों में तरह तरह की विचारधाराएं हैं|

आइये देखते हैं एनर्जी हीलिंग के ४ असली पहलू:

पुराणों में है एनर्जी हीलिंग के बारे में लिखा

रेकी (Reiki) एक प्राचीन जापानी वैज्ञानिक चिकित्सा प्रणाली है  जिसकी खोज बीसवी सदी के पहले कुछ वर्षों में यानि की लगभग १०० से भी अधिक सालों पहले की गयी है| प्राचीन भारतीय ग्रंथों में शरीर के ७ ऊर्जाचक्रों (energy chakras) के बारे में विस्तृत जानकारी है| एक्यूपंक्चर पर आधारित कई साल पुरानी चीनी उपचार प्रणाली में मेरिडियन्स (meridians), एनर्जी सुपर हाइवेज (energy superhighways यानि की ऊर्जा के महामार्ग) सक्रीय करने की तकनीक बताई है| 

इन अलग अलग नामकरणों को नजरअंदाज कर अगर हमने उनके अभ्यास को मध्यनजर रखा तो हम इस निष्कर्ष तक पहुंच सकते हैं कि, एनर्जी हीलिंग यानि की शरीर की अंधरुनि ताकत को जगाना| 

एनर्जी हीलिंग है विज्ञान के बलबूते पर आधारित

हमने भौतिक विज्ञान (Physics) में पढ़ा है कि किसी ठोस पदार्थ को जैसे की टेबल, वाइब्रेशन्स यानि की कंपन (स्पंदन) होते है, उसी प्रकार व्यक्ति के शरीर में भी वाइब्रेशन्स होते है| कई बार किसी खुश व्यक्ति के आने से माहौल में सकारात्मक बदलाव आता है, वह व्यक्ति गुड़ वाइब्स (अच्छे वाइब्रेशन्स) लोगों तक पहुंचाता है| जिस प्रकार व्यक्ति या वस्तु के वाइब्स होते हैं, उसी प्रकार जगह के भी वाइब्स होते है| अगर किसी जगह पर झगड़ा हुआ बाद में और हम वहा पहुँच गए तो हम बुरे वाइब्स की वजह से उस जगह से निकल जाना पसंद करेंगे| 

ये जरूर पढ़ें: भारतीय वरिष्ठ नागरीकों ने चुनी है रेकी चिकित्सा: अब है आपकी बारी

एनर्जी हीलिंग के उपचार लेने के लिए नहीं है अध्यात्म की राह पर चलने की आवश्यकता  

जिस प्रकार आपको नीचे गिरने से पहले गुरुत्वाकर्षण के नियम को समझने की ज़रूरत नहीं है, उसी प्रकार उपचार लेने से पूर्व इस विषय का अभ्यास करने की कोई जरुरत नहीं है| लेकिन इस उपचार प्रणाली का अधिकतम लाभ के लिए खुले दिमाग के साथ जाना भी उतनाही जरुरी है।

एनर्जी हीलिंग के लिए किसी बीमारी का होना जरुरी नहीं है| यदि आप तनावग्रस्त, चिंतित या शारीरिक रूप से थक चुके हैं, तो इस माध्यम से आप आराम और राहत महसूस कर सकते हैं। लेकिन आप पहले से किसी बीमारी पर इलाज करने के लिए एलोपैथी इस्तेमाल कर रहे हैं, तो एनर्जी हीलिंग के साथ साथ उसे भी जारी रखें| 

एनर्जी हीलिंग कहीं भी, कभी भी

एनर्जी हीलिंग प्रदान करने वाले चिकित्सक कहीं भी आसानी से मिल जाते हैं| 

  • रेकी (Reiki) चिकित्सा करने के लिए चिकित्सक से मिलने की भी आवश्यकता नहीं है| फोन पर बात करके चिकित्सक आपको ऊर्जा दे सकता है| 
  • एक्यूपंक्चर (Acupuncture) में सुईयों के जरिए शरीर में छेद किए जाते हैं| इस प्रणाली में शरीर के विविध धमनियों, अंगों और प्रणालियों को जागृत किया जाता है| 
  • रिफ्लेक्सोलॉजी (Reflexology) में हाथ, पैर और कानों पे स्थित ऊर्जा के बिंदुओं को दबाकर शरीर में ऊर्जा लायी जाती है| 
  • इन उपायों के अलावा मसाज के जरिए भी आप हल्केपन का एहसास कर सकते हैं| 

एनर्जी हीलिंग एक पूरक उपचार पद्धति के रूप में उभरकर सामने आयी है| आजकल इसे बड़े पैमाने पर अपनाया जा रहा है| वृद्धावस्था में एनर्जी हीलिंग की वजह से आपको जरूर फायदा होगा| 

ये जरूर पढ़ें: जानिये कैसे ८२ वर्षीय परशुराम साधले योग एवं एक्यूप्रेशर से करते हैं बिमारियां दूर

Ask a question regarding वृद्धावस्था में एनर्जी हीलिंग (Energy Healing): जानिए रोंचक बातें    

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here