3 MIN READ

हमारा बचपन जिनके साथ खेलकूद कर गुजरा उन बुजुर्ग दादा-दादी या माता-पिता को घर पर अकेले छोड़ कर जाना कितना मुश्किल लगता है| फिर भी काम से तो बाहर जाना ही पड़ता है| नौकरी करने के लिए विदेश में स्थित लोगों के लिए तो यह बहुत ही जटिल इम्तिहान होता है| इसपर तो एक ही उपाय है, उनके लिए देखभाल करने वाला कोई व्यक्ति उनके साथ घर पर रखना| सिर्फ उनका ख्याल रखने के लिए ही नहीं बल्कि उनके साथ बातें करने के लिए, वक्त गुजारने के लिए भी|

कई बार ये हमें पता नहीं होता कि देखभाल करने वाले व्यक्ति को कैसे चुना जाएँ| बुज़ुर्गोंके शरीर के साथ साथ उनके दिल का ख्याल रखना भी उतनाही जरुरी होता है, इसलिए केयरटेकर चुनते वक्त बहुत कुछ ध्यान में रखना पड़ता है| आइये देखते है, केयरटेकर की खोज कैसे की जाए:

देखभाल करने वालों के प्रकार:

देखभाल करने वाले व्यक्ति को चुनने के लिए हमें उस व्यक्ति की जरुरत क्यों है ये पहले सोचना चाहिए| २४ घंटे बुजुर्गों के साथ रहने के लिए, किसी निश्चित कालावधि के लिए या अगर घर के बुजुर्ग को कोई बीमारी हो तो विशेष रूप से ज्यादा ध्यान देने के लिए चाहिए ये तय करना सबसे जरुरी है|

  • साथी: कुछ देखभाल करने वाले व्यक्ति अकेले और उदास बुजुर्गों के साथ समय बिताकर उनका दिल बहलाते हैं|
  • सहायक: नहाना, शरीर को साफ़ रखना, भोजन करना आदि चीजों में बुज़ुर्गोंको सहायता करनेवाले और साथ ही साथ देखभाल करने वाले व्यक्ति की जरुरत हमें पड़ती है| ऐसी  सहायता करने वाले प्रशिक्षित व्यक्ति भी उपलब्ध होते हैं|
  • वैद्यक-सम्बन्धी प्रशिक्षित: बढ़ती उम्र के साथ आनेवाली बीमारियाँ जैसे की मधुमेह, कमजोर ह्रदय, स्ट्रोक आदि के मरीजों का बहुत ही ख्याल रखना पड़ता है| देखभाल करने वाला व्यक्ति अगर वैद्यक-सम्बन्धी जानकारी रखता हो, तो हमारे बुजुर्ग ज्यादा सुरक्षित रह पाएंगे|

देखभाल करने वाले व्यक्ति को चुनने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स

आपके प्रिय बुजुर्ग जनों के लिए देखभाल करनेवाले व्यक्ति को चुनते समय आपको इन महत्वपूर्ण टिप्स का बहुत उपयोग होगा:

  1. अपनी जरूरतों को पहचानें: क्या आपके घर में जो बुजुर्ग है उन्हें रोज के कामों में सहायता की जरुरत होती हैं?, क्या उन्हें भूलने की आदत है?, क्या उन्हें बार-बार डाक्टर के पास ले जाना पड़ता है? उनपर बार-बार ध्यान देने की जरुरत है? क्या रात को उन्हें किसी के पास होने की जरुरत है? इन बातों को ध्यान में रखते हुए देखभाल करनेवाले व्यक्ति को चुनना चाहिए|
  2. व्यक्तित्व का अभ्यास करेंकिसी देखभाल करनेवाले व्यक्ति को कितना अनुभव है इससे भी ज्यादा वह व्यक्ति आपके घर में जो बुजुर्ग व्यक्ति है उनसे कितना घुल-मिल रहा है ये जानना भी बहुत जरुरी है| आप उम्मीदवार से उसके पसंदीदा चीजों के और रुचियों के बारे में पूछें ताकि बुजुर्ग व्यक्ति और देखभाल करनेवाले व्यक्ति का आपस में कैसे मेलजोल होगा इसका अंदाजा लगाया जा सकता है|
  3. देखभाल करनेवाले के कागजात और पुराने नियोक्ता का सन्दर्भ: देखभाल करने वाले व्यक्ति के पास इस काम का लाइसेंस होना बहुत आवश्यक है| साथ ही साथ उसके पुराने नियोक्ता से बातचीत कर आप वह व्यक्ति काम के लिए अच्छा है की नहीं ये जानें|
  4. एग्रीमेंट बनाएँ: देखभाल करने वाले व्यक्ति की सेवाओं को शुरू करने से पहले उनके कामों का प्रारुप, वेतन, बोनस, काम का समय, जब वह व्यक्ति छुट्टी पर हो तब वैकल्पिक प्रबंध, गोपनीयता, काम छोड़ते समय एडवांस नोटिस इन सारी चीजों को एग्रीमेंट में लिख कर उस पर आपकी एवं देखभाल करने वाले की दस्तखत हो इस बात का ध्यान रखें| इस प्रकार इन बातों को शुरुआत में ही स्पष्ट करने की वजह से भविष्य में नियोक्ता एवं कर्मचारी दोनों को तकलीफ नहीं उठानी पड़ेगी|

देखभाल करने वाले व्यक्ति की नियुक्ति करना एक बहुत संवेदनशील एवं भावनिक निर्णय है| परन्तु बुजुर्गों की जरूरतों को मध्यनजर रखते हुए अगर सही व्यक्ति को चुना गया तो आप निश्चिंत हो सकते हैं |

Read this here in English and Marathi

Ask a question regarding देखभाल करने वाले व्यक्ति को कैसे चुनें?

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here