3 MIN READ

“Aging is not lost youth but a new stage of opportunity and strength.” – Betty Friedan. 

‘बुढ़ापे का मतलब जवानी का ख़त्म होना नहीं बल्कि जिंदगी ने दिया हुआ नया अवसर एवं  हौसला’ ऐसा ऊपरी पंक्ति का मतलब है| इस हौसले को बुलंद रखने की ताकत अच्छे पोषण से ही पाई जा सकती है| उम्र बढ़ने के साथ साथ पोषण की जरुरत भी बढ़ जाती है| २०११ की जनगणना के अनुसार भारत में १०.४ करोड़ जनसंख्या सिर्फ वरिष्ठजनों की है| जनगणना के अनुमान के अनुसार यह मात्रा सन २०२६ तक १७.३ करोड़ तक बढ़ने की सम्भावना है| एक सर्वेक्षण के अनुसार इसमें से ५० प्रतिशत नागरीक कुपोषित हैं| ९० प्रतिशत वरिष्ठजन उनके डायट चार्ट का पालन नहीं करते एवं खाने की मात्रा भी कम रखते हैं| इन आकड़ों से हम ये अंदाजा लगा सकते हैं, कि बुजुर्गों के पोषण के ख़याल रखना कितना जरुरी है|

पोषक आहार सेवन न करने की वजह से बुजुर्गों को कमजोरी का सामना करना पड़ता है| उम्र बढ़ने के साथ डायबिटीज, हृदयविकार जैसी स्थिति निर्माण हो जाती है| इसी के साथ अगर पोषक आहार न लिया जाए तो दवाइयों की वजह से जिंदगी बत्तर बन जाएगी| परन्तु संतुलित आहार और व्यायाम से जीवन में खुशियों की वापसी हो सकती है| 


बढ़ती उम्र के साथ शरीर की संरचना बदलने लगती है| जो खाना पहले खाया जाता था, वो बुढ़ापे में नहीं खाया जा सकता| आइये देखते हैं कि खाने में कौन से बदलाव आते हैं:

 

शारीरिक बदलावबदलाव का नतीजा खाने में बदलाव 
जीभ पर मौजूद रूचि ग्रंथियाँ कुछ रूचि ग्रंथियोंका अकार्यक्षम हो जाना खट्टापन या  मिठास जैसे स्वाद में फर्क पहचानना मुश्किल हो जाता है| मीठा खाने का मन करता है| चाय-काफी में  ज्यादा चीनी अच्छी लगने लगती है|
दाँत दाँतो की क्षति खाने की चीजों को चबाना मुश्किल हो जाता है| इस वजह से नरम चीजें खानी पड़ती हैं| हरी सब्जियाँ, फल खाने में तकलीफ होती है| 
जठरपेट में मौजूद जठर का आकार छोटा हो जाता हैएक ही बार में ज्यादा खाना खाने की बजाय ज्यादा बार थोड़ा थोड़ा खाना पड़ता है| 
आँत आँतो के माँसपेशियों के दुर्बलता की वजह से कम गतिशील हो जाते हैं| इस से आँतों की ग्रंथियाँ कम स्त्राव छोड़ती हैं| खाने का पाचन न होने की वजह से गैस और कब्ज का सामना करना पड़ता है| 

 

वरिष्ठजनों के लिए भोजन की नियमावली बनाएँ आसानी से

बढ़ती उम्र के साथ शरीर में चयापचय ठीक तरह से नहीं हो पाता| इस कारण शरीर की महत्वपूर्ण क्रियाएँ जैसे कि श्वसन,पाचन के लिए ताकत कम पड़ जाती है| 

वरिष्ठजन व्यायाम या ज्यादा ताकत लगनेवाले काम नहीं करते| इस कारण उनके लिए कम कैलरीज वाला खाना काफ़ी हो जाता है| उन्हें स्वाद जल्दी नहीं समझ आते| वे ज्यादा मसालेदार खाना नहीं खा पाते और इसी लिए खाने में स्वादिष्ट चीजे न होने की वजह से उनकी भूख कम हो जाती है| खाने में निम्न लिखित बदलाव लाने की वजह से उन्हें अच्छा पोषण मिलेगा:

  1. खाने का विभाजन: दो बार ज्यादा खाना खाने की बजाय ३-४ बार थोड़ा थोड़ा खाना चाहिए| अगर दोपहर का खाना ज्यादा खा लिया जाए तो भी ठीक है पर रात को कम खाना खाना चाहिए| अचानक बदलाव की वजह से भूख न लगना या ज्यादा लगना ऐसे परिणाम हो सकते हैं| भोजन में सारे बदलाव एक साथ लाने से अच्छा धीरे धीरे भोजन की आदतों को बदलना चाहिए|
  2. चबाने की आदत डालें: ऐसा खाना खाना चाहिए जो थोड़ा चबाना पड़े| फलों का रस पीने से अच्छा चीकू, संतरे, केले, अंगूर ऐसे नरम फल सेवन करने चाहिए| 
  3. तन्तुमय पदार्थों (फाइबर) का सेवन: खाने में सब्जियाँ और साबुत अनाज, साबुत दालें शामिल करनी चाहिए| बाजार से लाया हुआ गेहूँ का आटा या व्हाइट ब्रेड खाने की बजाय पीसा हुआ आटा और ब्राउन ब्रेड खाना चाहिए| इस से आंतो में गतिशीलता आएगी और गैस या कब्ज जैसी असुविधाजनक परिस्थिति का सामना नहीं करना पड़ेगा|
  4. खाने की चीजे समझदारी से चुने: अपने शरीर के लिए कौनसी खाने की चीजें उचित हैं, क्या और कब खाकर हमें तकलीफ़ हो सकती है ये हम अच्छी तरह से बता सकते हैं|  पर अगर सामान्य रूप में बताया जाए तो तेल की और तीखी चीजें खाना टालें| इससे बैड कोलेस्टराल नियंत्रित मात्रा में रहेगा एवं रक्त वाहिकाओं में ब्लोकेजेस नहीं आएँगे|
  5. खाने में एंटी आक्सिडेंट्स शामिल करें: खाने में रंगीले फल जैसे की टमाटर, मुसम्बी, हरी सब्जियाँ जैसे की पत्ता गोभी, पालक तथा सिट्रिक एसिडयुक्त फल जैसे की संतरे, निम्बू आदि चीजोंका इस्तेमाल करें|
  6. बड़ी मात्रा में पानी पिएं: बुजुर्गों को दिनभर में कम से कम ८ ग्लास पानी जरूर पीना  चाहिए|

जवान लोगों के मुकाबले बुजुर्गों के खाने की मात्रा कम रहती है| फिर भी अगर वे  संतुलित आहार का सेवन एवं थोडासा व्यायाम करें तो उनके लिए खुशहाल वृद्धावस्था का अनुभव लेना संभव है|  

Read this here in English and Marathi

Ask a question regarding वरिष्ठजनों में पोषण: खुशहाल आयुर्वृद्धि के लिए दिशानिर्देश

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here