2 MIN READ

किडनी हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अवयव है जो कि रक्त को फ़िल्टर करने का काम करता है| बढ़ती उम्र के साथ किडनी की उम्र भी बढ़ती है| अगर किडनी अपना कार्य करने में विफल हो रही है, तो शरीर में रक्त का फिल्ट्रेशन नहीं हो पाएगा| अतः, अशुद्ध रक्त के कारण हमारे बाकी अंगों पर भी दुष्प्रभाव पड़ सकता है| किडनी निष्क्रिय हो जाने पर किडनी का रक्त फिल्ट्रेशन का काम जारी रखने के लिए डायलिसिस की आवश्यकता होती है| एसीआर और जीएफआर टेस्ट्स के जरिए किडनी का स्वास्थ्य सुनिश्चित किया जा सकता है|

बुजुर्गों के लिए डायलिसिस की आवश्यकता

भारत में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार किडनी के अंतिम अवस्था के मरीजों में से प्रतिवर्ष २१ प्रतिशत बुजुर्गों को डायलिसिस की आवश्यकता होती है| डायलिसिस कराया जाने पर इनमे से ४० प्रतिशत बुजुर्ग २ साल से ज्यादा जीवन व्यतीत कर पाए| डायलिसिस की वजह से बढ़ते हुए जीवनमान को मध्यनजर रखते हुए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम की शुरुआत की गई|

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम से हो रहा है लाभ

भारत में लगभग ४९५० डायलिसिस केंद्र हैं। इनमें से अधिकांश केंद्र भारत के निजी क्षेत्र में है, लेकिन मांग और आपूर्ति में जो अंतर है उसकी वजह से प्रत्येक डायलिसिस में २००० रुपये का अतिरिक्त खर्चा होता है| इसके परिणामस्वरूप मरीजों को प्रतिवर्ष तीन से चार लाख रुपये का वार्षिक खर्चा उठाना पड़ता है। इसके अलावा बहुत सारे परिवारों को अक्सर डायलिसिस के लिए जाना पड़ता है| कभी कभी रोगी एवं रोगी के परिवार के सदस्यों को डायलिसिस के केंद्र तक पहुंचने के लिए दूर जाना पड़ता है जिसके लिए और पैसे खर्च करने पड़ते हैं|

इस परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम के अंतर्गत जिला स्वास्थ्य केंद्र को अधिक सक्षम बनाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं| राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत यह कार्यक्रम जारी है, जिसे सन २०१६  में शुरू किया गया था। पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने वर्ष २०१६-१७ के बजट प्रस्ताव में देश के हर जिले में एक डायलिसिस केंद्र खोलने के प्रस्ताव की घोषणा की थी।

सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून के तहत एक आरटीआई आवेदन पर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने अक्टूबर 2017 में दिए हुए जवाब के तहत इस कार्यक्रम के अंतर्गत देशभर में डायलिसिस की कुल ३३३४  मशीनें संचालित की जा रही हैं। इस कार्यक्रम के तहत गरीब रोगियों को मुफ्त में और अन्य को सब्सिडी के साथ यह सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

सरकार द्वारा दी जानेवाली यह सुविधा भारतीय वरिष्ठजनों के लिए उम्मीद का एक नया किरण है| इससे किडनी के अंतिम अवस्था में भी आपको जीवन व्यतीत करने में आसानी होगी| इस कार्यक्रम के तहत गरीब रोगियों को मुफ्त में और अन्य को सब्सिडी के साथ यह सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

ये जरूर पढ़ें:नैशनल ऑर्गन ट्रांसप्लांटेशन प्रोग्राम बुजुर्गों को देगा नया जीवन

Ask a question regarding जानें प्रधानमंत्री राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम के बारे में

An account for you will be created and a confirmation link will be sent to you with the password.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here